गुरुदेव सियाग सिद्धयोग में आपका स्वागत है -

अध्यात्म विज्ञान सत्संग केन्द्र, जोधपुर शुद्ध रूप से एक धार्मिक संस्था है, जिसकी स्थापना सन् 1993 में की गई (पंजीयन संख्या-09, दिनांक 10-05-1993, जोधपुर) जो राजस्थान सरकार (भारत) के देवस्थान विभाग में रजिस्टर्ड संस्था है। इस संस्था के संस्थापक एवं संरक्षक प्रवृतिमार्गी समर्थ सद्गुरुदेव श्री रामलालजी सियाग है। संस्था का प्रधान कार्यालय, चौपासनी, जोधपुर (राजस्थान) में स्थित है। सद्गुरुदेव द्वारा संचालित सिद्धयोग एवं मंत्र दीक्षा से भारतीय वैदिक दर्शन में वर्णित काश्मीरी शैव दर्शन एवं महर्षि पातंजलि योग दर्शन में वर्णित अष्टांग योग मूर्तरूप ले रहा है, जिससे उनके द्वारा दीक्षित साधकों को मन्त्र जप एवं ध्यान से भौतिक जीवन की सभी प्रकार की समस्याओं, शारीरिक रोगों एवं नशों से सहज में मुक्ति मिल रही हैं। महर्षि श्री अरविन्द ने कहा था कि ‘‘आगामी मानव जाति दिव्य देह धारण करेगी। ’’  यह उक्ति गुरुदेव द्वारा संचालित सिद्धयोग से मानवता में मूर्तरूप ले रही है। गुरुदेव सियाग का सिद्धयोग पूर्णतः नि:शुल्क है |

ध्यान कैसे करें

क्या एक निर्जीव चित्र, सजीव (मानव) पर प्रभाव डाल सकता है ? 

प्रत्यक्ष को प्रमाण क्या ? ध्यान करके देखें।

सद्गुरुदेव सियाग सिद्धयोग आराधना की एक सरल विधि है। इसमें दो कार्य करने होते हैं। सघन नाम (मंत्र) जप व नियमित ध्यान।

और पढ़ें
दिव्य मंत्र ऑनलाइन प्राप्त करें
फोटो गैलेरी
Photo Gallery Photo Gallery
Photo Gallery Photo Gallery
और देखें

गुरुदेव सियाग की वाणी में संजीवनी मंत्र सुनने के लिए नीचे दिये लिंक पर क्लिक करे।

download