Image ज्योति शर्मा

ज्योति शर्मा

एड्स से पूर्ण मुक्ति

पता

नई दिल्ली, भारत

मैं, ज्योति शर्मा, धर्म पत्नी श्री कमल शर्मा, दिल्ली की रहने वाली हूँ। जब मैं गर्भवती हुई तो डाॅक्टरों ने खून की जाँच कराने को कहा। जिससे पता चला कि मैं एचआईवी पाॅजिटिव हूँ। मुझे बताया गया कि मुझे एड्स है। डाॅक्टर ने मुझे बच्चा गिराने की सलाह दी क्योंकि बच्चे के भी एचआईवी पाॅजिटिव होने की संभावना अधिक थी। मैंने डाॅक्टर की सलाह पर बच्चा गिरवा दिया। मैं बहुत दुखी और परेशान हो गई।

  • मेरे पति को भी एड्स था। हम दोनों ने 15 दिन की, 14 हजार रूपये की दवाईयाँ एक आयुर्वेदिक डाॅक्टर से ली पर कोई फायदा नहीं हुआ। तब डाॅक्टर ने हमें बताया कि एड्स एक असाध्य बीमारी है और इससे बचा नहीं जा सकता।

  • एक दिन मेरे पति ने एक पेंम्फ्लेट देखा जिस पर सिद्धयोग द्वारा एड्स से मुक्त होने की बात कही गई थी। मेरे पति उस पर लिखा फोन नम्बर लेकर आ गए। हमने उस नम्बर पर काॅल किया तो पाया कि वह गुरुदेव श्री रामलाल जी सियाग के शिष्य श्री पी. एस. राठौर का नम्बर था। उन्होंने हमें गुरुदेव के बारे में बताया और शक्तिपात दीक्षा कार्यक्रम में जाने की सलाह दी।

मैंने गुरुदेव से 19 अगस्त 2005 को दीक्षा ली। तभी से मुझे विभिन्न प्रकार की यौगिक क्रियाएँ ध्यान के दौरान होने लगीं।
  • दो महीने के बाद मेरे पति श्री राठौर से दुबारा मिले तब उन्होंने एचआईवी वायरल लोड टेस्ट कराने की सलाह दी। 12 अक्टूबर 2005 को मेरे वायरल लोड टेस्ट की वैल्यू 44390 आई। कुछ महीने और ध्यान व जप करने के बाद मैंने एक फिर वायरल लोड टेस्ट कराया। 4 मई 2006 को कराई गई वायरल लोड टेस्ट में इसकी वैल्यू 20 से नीचे आ गई।

  • डाॅक्टरों ने मुझे पूर्णतः स्वस्थ घोषित कर दिया। उन्होंने मुझसे कहा कि अब मैं बच्चा पैदा कर सकती हूँ। आज मैं पूर्णतः स्वस्थ हूँ और घर के सभी काम करती हूँ।

  • उन सभी लोगों से, जो एड्स या किसी अन्य रोग से पीड़ित हैं, मेरा अनुरोध है कि वो गुरुदेव सियाग जी को समर्पण करके, मंत्र जाप और ध्यान करें। ऐसा करने से वो पूर्णतः स्वस्थ हो जाऐंगें।

Share

नवीनतम जानकारी

स्पिरिचुअल साइंस पत्रिका एवं लेटेस्ट विडियो सीधे अपने मेलबॉक्स में प्राप्त करें ।