ध्यान रखने योग्य बातें।

ध्यान रखने योग्य कुछ बातें

  • शक्तिपात दीक्षा के लिए सर्वप्रथम गुरुदेव श्री रामलालजी सियाग की दिव्य वाणी में संजीवनी मंत्र को सुनना अनिवार्य है। उनकी आवाज में सुने बिना मंत्र का प्रभाव नहीं होता है।

  • संजीवनी मंत्र का सघन मानसिक जाप बहुत जरुरी है। गुरुदेव कहते हैं कि साधक को इस मंत्र का जाप चौबीसों घण्टे करना है- नहाते, खाना खाते, घुमते-फिरते, ड्राइव करते वगैरह वगैरह ।

  • मंत्र जाप बिना होठ और जीभ हिलाये (मानसिक) करना है।

  • ध्यान खाली पेट करना है।

  • ध्यान किसी भी दिशा में मुँह करके कर सकते हैं।

  • ध्यान के समय सद्गुरुदेव श्री रामलाल जी सियाग के चित्र को अपने आज्ञाचक्र पर केन्द्रित करते हुए संजीवनी मंत्र का मानसिक रूप से जाप करना है (बिना होठ-जीभ हिलाए)।

  • गुरुदेव सियाग सिद्ध योग की ध्यान और मंत्र जाप की विधि अपनाते हुए किसी भी और मंत्र का जाप न करें।

  • ध्यान केवल पंद्रह मिनट का ही करना है।

  • गुरुदेव सियाग सिद्ध योग को अपनाने के लिए आपको अपना धर्म छोड़ने की आवश्यकता नहीं है।

  • गुरुदेव सियाग सिद्धयोग को अपनाने के लिए आपको अपनी जीवनशैली में परिवर्तन करने की भी जरुरत नहीं है। गुरुदेव कहते हैं की आपको वस्तुएँ छोड़ने की आवश्यकता नहीं है , वस्तुएँ आपको खुद छोड़ जाएँगी।

मासिक पत्रिका

हमारे मासिक संस्करण और साप्ताहिक डाइजेस्ट को सीधे अपने मेलबॉक्स में प्राप्त करें ।