ध्यान रखने योग्य बातें।

ध्यान रखने योग्य कुछ बातें

  • शक्तिपात दीक्षा के लिए सर्वप्रथम गुरुदेव श्री रामलालजी सियाग की दिव्य वाणी में संजीवनी मंत्र को सुनना अनिवार्य है। उनकी आवाज में सुने बिना मंत्र का प्रभाव नहीं होता है।

  • संजीवनी मंत्र का सघन मानसिक जाप बहुत जरुरी है। गुरुदेव कहते हैं कि साधक को इस मंत्र का जाप चौबीसों घण्टे करना है- नहाते, खाना खाते, घुमते-फिरते, ड्राइव करते वगैरह वगैरह ।

  • मंत्र जाप बिना होठ और जीभ हिलाये (मानसिक) करना है।

  • ध्यान खाली पेट करना है।

  • ध्यान किसी भी दिशा में मुँह करके कर सकते हैं।

  • ध्यान के समय सदगुरुदेव श्री रामलाल जी सियाग के चित्र को अपने आज्ञाचक्र पर केन्द्रित करते हुए संजीवनी मंत्र का मानसिक रूप से जाप करना है (बिना होठ-जीभ हिलाए)।

  • गुरुदेव सियाग सिद्ध योग की ध्यान और मंत्र जाप की विधि अपनाते हुए किसी भी और मंत्र का जाप न करें।

  • ध्यान केवल पंद्रह मिनट का ही करना है।

  • गुरुदेव सियाग सिद्ध योग को अपनाने के लिए आपको अपना धर्म छोड़ने की आवश्यकता नहीं है।

  • गुरुदेव सियाग सिद्धयोग को अपनाने के लिए आपको अपनी जीवनशैली में परिवर्तन करने की भी जरुरत नहीं है। गुरुदेव कहते हैं की आपको वस्तुएँ छोड़ने की आवश्यकता नहीं है , वस्तुएँ आपको खुद छोड़ जाएँगी।

मंत्र के संबंध में गुरुदेव सियाग का निर्देश

साधकों के लिए गुरुदेव का निर्देश

Image Description
शेयर करेंः

नवीनतम जानकारी

स्पिरिचुअल साइंस पत्रिका एवं लेटेस्ट विडियो सीधे अपने मेलबॉक्स में प्राप्त करें ।