Image सुभाष जांगिड़

सुभाष जांगिड़

साईटिका से मुक्ति

पता

सुभाष जांगिड़, गांव- जेजुसर, जिला, झुंझनु (राज.)

मेरे सदगुरुदेव श्री रामलाल जी सियाग को शत-शत नमन व कोटि-कोटि प्रणाम। श्री गुरुदेव के जितने शिष्य विश्व में हैं उनको तो मालूम है कि श्री सदगुरुदेव परमशक्ति और साक्षात् भगवान् श्री कृष्ण हैं। लेकिन जो गुरुदेव के शिष्य नहीं हैं उनको बताना चाहता हूं कि सदगुरुदेव उसी परम शक्ति का नाम है जो अपने शिष्यों की पल-पल रक्षा करते हैं।

  • मेरे तो सदगुरुदेव श्री रामलाल जी सियाग भगवान श्री कृष्ण हैं। मैंने जब से गुरुदेव का ध्यान लगाना शुरू किया है तब से कठिनाईयों का गायब होना देखा है। जब भी समस्या आती है उससे पहले ही समाधान उत्पन्न कर देते हैं। जैसे एक बार समस्या का एहसास होता है तो सिर्फ इतना ही कहना पड़ता हैं कि गुरुदेव आप जानो और आपका काम जाने, बस इतना कहने पर पल भर में समाधान हो जाता है।

  • मैं पहले जब सावन में कावड़ लेकर आता था तब भांग व गांजा वगैरह का सेवन- अक्सर करता रहता था। जब से गुरुदेव का ध्यान लगाना शुरू किया है तब से सारे नशों व शारीरिक रोगों से स्वतः ही मुक्ति मिल गई है। सारे नशे छोड़ते चले गये हैं।

मैंने जब से गुरुदेव का ध्यान लगाना शुरू किया है तब से कठिनाईयों का गायब होना देखा है। जब भी समस्या आती है उससे पहले ही समाधान उत्पन्न कर देते हैं।
  • गुरुदेव का ध्यान लगाने से पहले मैं भयंकर बीमारी जिसको साईटिका कहते हैं-से पीड़ित था। अब एकदम ठीक हो गई। पहले डॉक्टरों को बहुत पैसा दिया है। अब तो शरीर में तकलीफ नाम की कोई चीज नहीं है।

  • अतः जो गुरुदेव के शिष्य नहीं है उनसे सिर्फ इतना ही कहूँगा कि मेरी बात को सिर्फ पढ़कर गुरुदेव का ध्यान लगाओ अपने आप पता चलेगा। गुरुदेव के प्रति अपने आपको समर्पित करके देखो जीवन आनन्दमय बन जायेगा। साक्षात भगवान के दर्शन करोगे। आप धन्य हो गुरुदेव आपको कोटि कोटि प्रणाम, जय गुरुदेव।

Share

नवीनतम जानकारी

स्पिरिचुअल साइंस पत्रिका एवं लेटेस्ट विडियो सीधे अपने मेलबॉक्स में प्राप्त करें ।