Image श्रीमती पदमा देवी शर्मा

श्रीमती पदमा देवी शर्मा

गुरु कृपा से सफेद मोतिया बिन्द ठीक हुआ

पता

श्रीमती पदमा देवी शर्मा, जयप्रकाश नगर, घौण्डा, दिल्ली

सर्वप्रथम समर्थ सदगुरुदेव व दादा गुरुदेव के पावन चरणों में शत शत नमन्। मैं पदमा देवी शर्मा उम्र 64 वर्ष दिल्ली की रहने वाली हूँ। मैं जब जनवरी 2010 में मेरी छोटी बहन के बेटे की शादी में ग्राम भूपखेड़ा, बहरोड.(राज.) गई तो मुझे पूज्य गुरुदेव के बारे में पता चला।

  • मेरी बहन का पूरा परिवार गुरुदेव का ध्यान करता है। मैंने भी गुरुदेव की सी.डी. से मंत्र दीक्षा लेकर ध्यान शुरू कर दिया और कुछ दिन बाद ही उबासी जैसी क्रियाएँ होनी लगी और फिर गहरा ध्यान लगने लगा।

  • मेरी आँखों से साफ दिखाई नहीं देता था। जब मैंने चन्दन देवी हॉस्पीटल जनकपुरी, नई दिल्ली में आँखों की जाँच करवाई तो डॉक्टर ने दोनो आँखों में मोतिया बिन्द बताया और ऑपरेशन करवाने की सलाह दी। परन्तु मेरा गुरुदेव के चरणों में पूर्ण समर्पण हो गया था।

अतः मैंने ऑपरेशन नहीं करवाया और नियमित ध्यान व मन्त्र जाप करती रही। ध्यान के दौरान मेरी आँखों से पानी टपकता था। छः महीने बाद जब मैंने सर्राफ हॉस्पीटल, दरियागंज में दुबारा आँखों की जाँच करवाई तो डॉक्टर ने बताया कि आपकी आँखें पूर्ण स्वस्थ हैं और मोतिया बिन्द नहीं है।
  • मुझे अब साफ दिखाई देता है और आँखों के आगे जाला भी नहीं घूमता। मेरे दोनो चश्में पड़े रहते हैं और मैं बिना चश्में के सूई में धागा पिरो लेती हूँ। यह बदलाव गुरु कृपा से ही सम्भव हुआ।

  • ऐसे परम दयालु गुरुदेव के चरणों में बारंबार नमन करती हूँ।

Share

नवीनतम जानकारी

स्पिरिचुअल साइंस पत्रिका एवं लेटेस्ट विडियो सीधे अपने मेलबॉक्स में प्राप्त करें ।