Image कमलेश कुमार शर्मा

कमलेश कुमार शर्मा

तामसिक शक्तियों से छुटकारा

पता

कमलेश कुमार शर्मा जयपुर (राज.)

सर्वप्रथम समर्थ सदगुरुदेव व दादा गुरुदेव बाबा श्रीगंगाई नाथ जी महायोगी (ब्रह्मलीन )के चरण कमलों में बारंबार नमन्। मुझे दिनांक 17 अक्टूबर 2014 को गुरुदेव के बारे में एक पुराने साधक श्री वर्मा जी के द्वारा जानकारी प्राप्त हुई। उन्होंने मुझे गुरुजी का फोटो दिया और ध्यान लगाने की विधि बताई।

  • मैंने दिनांक 17 अक्टूबर 2014 की शाम को ही ध्यान शुरू कर दिया व इस बारे में मैंने मेरी पत्नी व बच्चों को भी बता दिया था। लगभग 15 वर्षों से मेरा परिवार भयंकर परेशानियों का सामना कर रहा था। जिनका हमने कई जगह इलाज भी करवाया। कई पंडितों से पूछा। कई स्थानों पर देवताओं से इलाज करवाया। कई ज्योतिषियों के पास गये।

  • उनके बताये अनुसार उपाय भी किये किंतु हमारी परेशानियाँ बढ़ती ही गई। कई जगह इलाज के नाम पर पैसे लिये गए किंतु इलाज नहीं हुआ। एक स्थान पर तो मुझे यह बताया गया कि आपकी बीमारी का कोई इलाज नहीं है। और मेरी आर्थिक स्थिति भी इनके चक्कर लगा-लगाकर ज्यादा खराब हो गई।

उसी दिन (18 अक्टूबर 2014) से हमें उन भूत प्रेतों (तामसिक शक्तियों) से छुटकारा मिल गया। मुझे यौगिक क्रियायें होने लग गई। उपर्युक्त परेशानियों से छुटकारा दिलाकर गुरुदेव ने हमारे ऊपर असीम अनुकंपा की है। जिससे हम सभी को एक नया जीवन दान मिला है। अब हमें कोई परेशानी नही है तथा घर के सभी सदस्य भय मुक्त रहते हैं।
  • दिनांक 17 अक्टूबर 2014 की रात को हमारे साथ जो कुछ हुआ उसे सुनकर हर किसी के रोंगटे खड़े हो सकते हैं। वो दिलदहलाने वाली घटना आज भी याद करके मेरे परिवार के सदस्य डर जाते हैं। घटना इस प्रकार है-दिनांक 17 अक्टूबर 2014 को वर्मा जी ने मुझे गुरुजी की फोटो के दो कार्ड दिये। घर लाकर मैंने फोटो के पीछे लिखे निर्देशों का पालन करते हुए फोटो के सामने शाम को ध्यान लगाया। तत्पश्चात घर के सभी लोग खाना खाकर सो गये। गुरुदेव की एक फोटो मैं स्वयं शर्ट की जेब में रख कर सो गया तथा दूसरी फोटो कमरे में खिड़की में रखी हुई थी। घर में जितने भी डोरे, ताबीज, जिस किसी के भी पास थे, वह सब मैंने उसी दिन बाहर कर दिये थे।

  • रात्रि के बारह बजे के आस-पास भूत प्रेतों ने मेरी पत्नी को डराना शुरू कर दिया। डर के कारण वह बहुत ज्यादा घबरा गई। जैसे तैसे मैंने मेरी पत्नी को संभाला और सुलाने की कोशिश की। हम सभी सो नहीं पाये और सुबह सब ने गुरुदेव से प्रार्थना की। ये घटना मैंने फोन पर 6:30 बजे के आस -पास वर्मा जी को बताई तो उन्होंने मुझे घर बुला कर गुरुजी की तस्वीर दी और हिम्मत बंधाई। गुरुजी की दीक्षा मंत्र वाली सीडी देकर ध्यान करने बाबत कहा।

  • दिनांक 18 अक्टूबर 2014 को हमने घर की पूरी सफाई की। गुरुजी की तस्वीर स्थापित की और घर के सभी सदस्यों ने सीडी देखकर मंत्र दीक्षा ली। और 18 अक्टूबर 2014 से मैंने और मेरी पत्नी ने सुबह शाम गुरुदेव का नियमित ध्यान करना शुरू कर दिया।

  • उसी दिन (18 अक्टूबर 2014) से हमें उन भूत प्रेतों (तामसिक शक्तियों) से छुटकारा मिल गया। मुझे यौगिक क्रियायें होने लग गई। उपर्युक्त परेशानियों से छुटकारा दिलाकर गुरुदेव ने हमारे ऊपर असीम अनुकंपा की है। जिससे हम सभी को एक नया जीवन दान मिला है। अब हमें कोई परेशानी नही है तथा घर के सभी सदस्य भय मुक्त रहते हैं। तथा कई प्रकार की अनुभूतियाँ होती रहती हैं। हम धन्य हैं जिस प्रकार गुरुदेव जी ने हम पर कृपा की हैं उसी प्रकार सभी साधकों पर करें।

Share

नवीनतम जानकारी

स्पिरिचुअल साइंस पत्रिका एवं लेटेस्ट विडियो सीधे अपने मेलबॉक्स में प्राप्त करें ।